लड़कियाँ


+++++++++
हंसती हुई लड़कियों के भीतर
उगा होता है एक दरख़्त
उदासियों का,
जिनमें फलते हैं दर्द
बारों महीने...
और ठहरी हुई उदास आँखों वाली
लड़कियों के भीतर
बहता है एक चंचल झरना
मीठे पानी का...

आसमान की ओर तकती लड़कियों में
नहीं होती एक भी ख्वाहिश
एक भी उम्मीद ,
कि उसने नाप रखी है
अपने मन से
क्षितिज तक की दूरी....
और पलकें झुकाए
अंगूठे से ज़मीन कुरेदती लड़की
दरअसल
बुन रही होती है एक साथ
कई कई रूपहले सपने
मन ही मन में
गुपचुप गुपचुप|
सिले हुए होंठों वाली लड़कियां
गुनगुनाती हैं
नहीं सुनाई पड़ने वाले
एकाकी प्रेम गीत
जिन्हें वे खुद ही गुनती हैं, खुद ही सुनती है...
और सड़कों पर उतरीं
नारे लगाती,विरोध करती , चिल्लाती लड़कियां
होती हैं एकदम ख़ामोश !
इनके भीतर पसरा होता है एक निर्वात
कि उनकी आवाज़ कहीं तक पहुँचती नहीं !!
लड़कियां नायिकाएं नहीं होती....
कहानियों का सबसे झूठा किरदार होती हैं लड़कियां !!
~अनुलता ~

आप सभी के ब्लॉग पर अपनी अनुपस्थिति के लिए क्षमा चाहती हूँ....उम्मीद है अब इतने बड़े अंतराल न होंगे....

Comments

  1. वाह ! लेकिन यह बात सिर्फ लड़कियों के लिए ही सच मालूम नहीं होती किसी न किसी रूप में हर कोई ही सबसे झूठा किरदार होता है...

    ReplyDelete

  2. बहुत सुंदर शब्द ,बेह्तरीन अभिव्यक्ति .!शुभकामनायें. आपको बधाई
    कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    ReplyDelete
  3. बहुत ही संवेदनशील रचना ... शब्दों का प्रभाव देर तक मन में छाए रहता है ...

    ReplyDelete
  4. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, जीना सब को नहीं आता - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  5. अनु दी आपकी ये रचना बेहद अच्छी लगी ..कितना सच है न इसमें ..लगा कुछ मुझसे होकर गुजर गया !

    ReplyDelete
  6. ग़ज़ब की रचना

    ReplyDelete
  7. बहुत कम शब्दों में बहुत कुछ कहती कविता.......

    ReplyDelete
  8. बहुत ही संवेदनशील रचना

    ReplyDelete
  9. बहुत ही बेहतरीन रचना है कुछ hindi quotes भी पढ़े

    ReplyDelete
  10. Start self publishing with leading digital publishing company and start selling more copies
    self publishing india

    ReplyDelete
  11. लड़कियां नायिकाएं नहीं होती....
    कहानियों का सबसे झूठा किरदार होती हैं लड़कियां !!
    ... बहुत सही कहा...

    ReplyDelete
  12. बेहद प्रभावशाली रचना......बहुत बहुत बधाई.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको सपरिवार नववर्ष की शुभकामनाएं...HAPPY NEW YEAR 2016...

      Delete
  13. sunder bahot ache ...............!!!!!

    ReplyDelete
  14. सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  15. न जाने क्या सच होता है लड़कियों का . गहन और सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............