दर्द का कोई आकार नहीं होता
दुःख का कोई रंग नहीं
महकती नहीं उदासियाँ 

मन के सारे भेद खोल देती है
एक आह !
उलझे बालों की लटें
कसी मुट्ठियाँ
और भिंचे दांत !!

उतरे चेहरे,
शिकन पड़ा हुआ माथा
पपडाए होंठ
आवाज़ की लर्जिश
और गुलाबी डोरों वाली आँखे
कर देती हैं चुगलियाँ !

वरना रंजो ग़म की दास्तानें यूँ सरेआम नीलाम न होतीं.....
~अनुलता ~

Comments

  1. दर्द का प्रतिबिम्ब - बहुत सुन्दर!!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया अनु, ..

    ReplyDelete
  4. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 4-12-2014 को चर्चा मंच पर गैरजिम्मेदार मीडिया { चर्चा - 1817 } में दिया गया है
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर अनु जी ! सच है दर्द का ना कोई आकार होता है ना ही उसे नापने के लिये कोई पैमाना ! मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  6. दर्द का कोई आकार नहीं होता

    दुःख का कोई रंग नहीं
    महकती नहीं उदासियाँ

    सच कहा आपने दर्द का कोई आकार नहीं होता।
    सुंदर पंक्तियां।

    ReplyDelete
  7. आह ये चुगलियाँ ... जो न होतीं
    क्या खूब बयाँ किया है दर्द .

    ReplyDelete
  8. dard ka koi aakar va rang nahi hora.... bahut sunder dard ka bayaan.....umda rachna

    ReplyDelete
  9. dard ka koi aakar va rang nahi hota.... bahut sunder dard ka bayaan.....umda rachna

    ReplyDelete
  10. मन पर और कई बार आँखों पर भी बस नहीं होता ...
    सामने ले आते हैं सभी भाव ...

    ReplyDelete
  11. उतरे चेहरे,
    शिकन पड़ा हुआ माथा
    पपडाए होंठ
    आवाज़ की लर्जिश
    और गुलाबी डोरों वाली आँखे
    कर देती हैं चुगलियाँ !

    वरना रंजो ग़म की दास्तानें यूँ सरेआम नीलाम न होतीं.....

    अद्भुत।।।

    ReplyDelete
  12. सूंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

प्रेमपत्र

मेरी लिखी कहानी "स्नेहा" - 92.7 big fm पर नीलेश मिश्रा की जादुई आवाज़ में................

दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में मेरी किताब "इश्क तुम्हें हो जाएगा " की समीक्षा...............