इन्होने पढ़ा है मेरा जीवन...सो अब उसका हिस्सा हैं........

Friday, June 22, 2012

सन्नाटा....

सूना रास्ता ये
जाने  किधर को जाता है...
सीधी  सड़क है
आसान  सी राह दिखती है..
मगर कोई राहगीर नहीं!!
सन्नाटा सा पसरा है...
अक्सर कुछ उदास चेहरे
वहाँ से आते दिखते,
खाली हाथ
आँखों में लाल डोरे
शायद राख से सने हाथ...
कहते थे,
विदा  कर आये किसी को...
फिर ना जाने क्यों 
लोग कहते हैं
कि ये सड़क कहीं नहीं जाती??


-अनु 

50 comments:

  1. फिर ना जाने क्यों
    लोग कहते हैं
    कि ये सड़क कहीं नहीं जाती??

    गहन भाव लिए उत्‍कृष्‍ट लेखन ... आभार

    ReplyDelete
  2. अनुजी, बहुत उदास कर देनेवाली रचना.

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत प्रस्तुति ।

    बधाई अनु जी ।।

    सन्नाटा काटे खड़ा, जड़ा-पड़ा इंसान ।

    क्षिति-जल पावक बाँट ले, गगन समीर सयान ।

    गगन समीर सयान, ध्यान देने की बातें ।

    अपनापन अज्ञान, सिसकते रिश्ते नाते ।

    अंतिम घाट शरीर, पीर ना कोई बांटा ।

    रखिये मन में धीर, तोडिये मत सन्नाटा ।।

    ReplyDelete
  4. बहुत मार्मिक गहन भाव समेटे हुए शब्द बढ़िया प्रस्तुति अनु जी

    ReplyDelete
  5. अंतिम यात्रा भी एक यात्रा होती है .
    जब यात्री चुप और दुनिया रोती है .

    ReplyDelete
  6. राह में चलता चले,मिल जायेंगे मनमीत भी,
    पीछे मुड़े ना ,देख आगे, आ जायेंगे वो कभी ||

    ReplyDelete
  7. उस सड़क पर कभी वापस नहीं आने के लिए जाना है...दिल को छूती रचना!

    ReplyDelete
  8. ये सन्नाटा बहुत बेधता है ........

    ReplyDelete
  9. अनुपम भाव...सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  10. इस सड़क से वापिस आना नहीं होता...बहुत गहन और मार्मिक प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  11. इस सन्नाटे में भी गूंजता है कुछ, तभी तो जन्म लेती है ऐसी कविता...!
    मार्मिक!

    ReplyDelete
  12. नदी किनारे धुआं उठत है, मै जानू कुछ होय.
    जिसके कारन मै जली ,वही न जलता होय

    ReplyDelete
  13. भावो की सुंदर अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  14. ओह..इतना सन्नाटा क्यों ?
    कविता गहन अर्थ लिए है.

    ReplyDelete
  15. गहन सन्नाटा बिखेर दिया आपने तो
    ......
    ????

    ReplyDelete
  16. गहन सन्नाटा लिए मार्मिक रचना.. अनु सस्नेह..

    ReplyDelete
  17. गहन भाव लिए
    बेहतरीन रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  18. रिक्तता रिस गयी गहरी ....आकुल व्यकुल मन ....पसरा है सन्नाट सा सन्नाटा ....ये प्रभु तेरी कैसी लीला है ....सब कुछ पा कर सब कुछ लुटाना क्यों पड़ता है ...??????
    गहन अभिव्यक्ति ....!!

    ReplyDelete
  19. सचमुच बहुत लम्बे सफ़र पर ले जाती है यह राह फिर भी लोग कहते है कहीं नहीं जाती ये सड़क... गहन भाव

    ReplyDelete
  20. गहरा सन्नाटा
    सीधी सड़क
    पर
    नहीं जाना चाहता
    खुद कोई भी
    लोग कर आते हैं विदा
    अलविदा कह कर
    पर फिर भी
    सच है कि
    सड़क कहीं जाती नहीं

    बहुत गहन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  21. सबको जाना है उस मंजिल तक, जिसके आगे राह नहीं है...

    ReplyDelete
  22. शायद राख से सने हाथ...
    कहते थे,
    विदा कर आये किसी को...

    मन को उदास करती रचना,,,,

    ReplyDelete
  23. यही राह तो कहती है -
    तेरा मेला पीछे छूटा रही चल अकेला...........

    सन्नाटा ही सन्नाटा , किंतु हृदय है शोर
    कैसे साधूँ कैसे बाधूँ ,मैं श्वासों की डोर ||

    ReplyDelete
  24. bahut hi dard bhari rachna.....acchi nahi bahut acchi lagi...

    ReplyDelete
  25. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    उम्दा लेखन, बेहतरीन अभिव्यक्ति


    चलिए
    हिडिम्बा टेकरी



    ♥ आपके ब्लॉग़ की चर्चा ब्लॉग4वार्ता पर ! ♥

    ♥ पहली बारिश में गंजो के लिए खुशखबरी" ♥


    ♥सप्ताहांत की शुभकामनाएं♥

    ब्लॉ.ललित शर्मा
    ***********************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    ReplyDelete
  26. कल 24/06/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  27. ये रास्ते तो निगल जाते हैं यादें सारी | बहुत मार्मिक प्रस्तुति |

    ReplyDelete
  28. सच कहा अंतिम यात्रा भी तो यात्रा ही है ...किसी के लिए दुःख किसी के लिए सुख ...

    ReplyDelete
  29. Anu this one poem is enough to make me follow your blog-it was what should i say-rongte khare ho gaye.

    ReplyDelete
  30. विदा कर आये किसी को...
    फिर ना जाने क्यों
    लोग कहते हैं
    कि ये सड़क कहीं नहीं जाती??

    मन भीग गया...बहुत संवेदनशील रचना ...

    ReplyDelete
  31. लोग कहते हैं
    कि ये सड़क कहीं नहीं जाती??
    samvedna ke sath sawal puchhti kavita !

    ReplyDelete
  32. बेशक बेहद आकर्षक लेखन
    उम्दा अभिव्यक्ति और और बहुत कुछ
    वाह बधाई

    ReplyDelete
  33. zindagi kabhi to sannate ko chir kar baahar niklegi....bahut sundar....

    ReplyDelete
  34. किसीसे मिलने पर जितनी खुशी होती है उससे ज्यादा बिछुडने का दुःख.

    सुंदर मार्मिक प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  35. बहुत सुन्दर रचना ... कई बार लगता है जैसे ये रास्ते थम गए है !

    ReplyDelete
  36. विदा कर आये किसी को...
    फिर ना जाने क्यों
    लोग कहते हैं
    कि ये सड़क कहीं नहीं जाती??

    अनु जी गहन अभिव्यक्ति यही तो है जीवन जाने वाला चुप परम शांत ...दुनिया रोती और न जाने क्या क्या ..आभार
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  37. ये सड़क कहीं नहीं जाती.....हम इंसान ही चल पड़ते हैं, उस ठहरी सड़क पर! वो तो सिर्फ़ एक गवाह है....हमारी असली मंज़िल की !
    अनु जी, एक सिहरन सी दौड़ गयी....कहीं भीतर ही भीतर ! एक कड़वा सच !

    ReplyDelete
  38. Anu ji aaj hi koi purana dost tha usko fuk kar aaya hoon . Jab tak shamshan ke gate tak rahte hain sab kuch begana lagta hai or bahar niklte hi sab kuch chopat....ho jata hai...

    ReplyDelete
  39. ...अंत ....या एक नई शुरुआत ....!
    .....वाह अनुजी !!! बहुत ही सुन्दर ..!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  40. ye bahut achhi lagi mujhe

    ReplyDelete

नए पुराने मौसम

मौसम अपने संक्रमण काल में है|धीरे धीरे बादलों में पानी जमा हो रहा है पर बरसने को तैयार नहीं...शायद उनकी आसमान से यारी छूट नहीं रही ! मोह...